Nawaz Poetry

Mana Ke hm yaar Nahi || Old Memory || Purani Yaadein || My Office Life…..

June 27, 2019
Spread the News

Spread the News माना के हम यार नहीं लो तय है के प्यार नहीं माना के हम यार नहीं लो तय है के प्यार नहीं फिर भी नज़रें ना तुम मिलाना दिल का ऐतबार नहीं माना के हम यार नहीं रास्ते में जो मिलो, तो हाथ मिलाने रुक जाना हो, साथ में कोई हो तुम्हारे, […]

Read More

K Sun K Main khamosh ho chuka hoon | Nawaz Poetry

May 14, 2019
Spread the News

Spread the NewsK sun k main khamosh ho chuka hoon Ke tu sun ab main khamosh ho gya hoon Chup chap tanha sa ye karwan chala ja reha hai Manjil hai na koi hamrahi na koi ummid na koi khawahish Bs intajar to us maut ka jo Khuda ne muqarrarrr ki hai Haan ye such […]

Read More

Paigame Muhabbat – Written By Nwaz

April 30, 2018
Spread the News

Spread the NewsPaigame Muhabbat Ab koi nhi samajh pata is gum ko Ab ye gum chupa hi rahe duniya se to acha h Jindagi ka adha hissa to bsar kar li Woh akhri jhalak meri kya Yaad h tumko aksarha sochta hoon aur ek beman si muskan aa jati hai Tum sath aaj hote to […]

Read More

तेरी जिंदगी से बहुत दूर चले जाना है

April 14, 2018
Spread the News

Spread the NewsSad Poetry तेरी जिंदगी से बहुत दूर चले जाना है फिर न लौट कर इस दुनिया में आना है, बस अब बहुत हुआ ……………………. अब किसी का भी चेहरा इस दिल में कभी नहीं बसाना है…………………….. तुम्हारी जिंदगी में अब मैं नहीं तुम्हारी जिंदगी में अब कोई और सही पर मेरे दिल में […]

Read More